दिनो दिनो बढ रहा है नटवर लाल चिकित्सक की ठगी का जाल

नर्क की जिंदगी जीने वाले मरीज और उनके परिजन चिकित्सक से करना चाहते है अपना हिसाब, विश्व विख्यात चिकित्सक के नाम पर डीएम एसपी के साथ फोटो खिचाकर मरीजो को फसाता है जाल में एवं लकवा कैंसर ब्रेन हैमरेज पोलियो के ईलाज के नाम पर यह ठग चिकित्सक जा चुका है कई बार जेल


कौशाम्बी। पहले लखनऊ शहर में मरीजो को झासा देकर लूटने के बाद जब लखनऊ मे मुकदमा दर्ज हो गया तो उक्त नटवर लाल चिकित्सक ने कौशाम्बी के मनौरी में अपना जाल फैलाकर मरीजो को लूटना शुरू किया कौशाम्बी में भी इस पर मुकदमा दर्ज हुआ और जेल भी गया नटवर लाल के अस्पताल को भी सील किया गया लेकिन नटवर लाल ने सील अस्पताल का ताला तोड दिया


 और फिर अपनी लच्छेदार बातो से मरीजो को गुमराह कर उनके ईलाज के ठेका लेकर उन्हे लूटने लगा। लकवा कैंसर ब्रेन हैमरेज पोलियो जैसे गम्भीर मरीजो को लूटने का ठेका लेने वाले इस चिकित्सक के यहॉ कितने मरीज ठीक हुए इसका अभिलेख भी चिकित्सक के पास नही है


 लूट का धन्धा खोलकर बैठ कर इस चिकित्सक ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी अपना जाल फैला लिया है जहॉ मरीजो को नर्क की जिंदगी दे दिया तो इस चिकित्सक से मरीज के परिजन अपना हिसाब बराबर करने पर उतर आये जिससे भयाग्रस्त चिकित्सक ने गनर की फौज लगा ली अब मरीज अपना हिसाब चिकित्सक से नही कर पा रहे है मरीज ठीक नही हुए लेकिन स्वास्थ्य विभाग के आलाधिकारी इस पर मेहरबान है


 विश्व स्वास्थ्य संगठन का सदस्य बताकर कही मरीजो को झासा देता है तो कभी यह नटवर लाल चिकित्सक डीएम एसपी के बगल मे खडा होकर फोटो खिचाकर लोगो के बीच अपने को डीएम एसपी से जोडकर लूट के धन्धे को बढाता है अब तो होटलो में विश्व विख्यात चिकित्सक के नाम से मरीजो को लूट रहा है। 


 माफियाओ जैसे लग्जरी वाहनो में गनर के साये में घूमने वाले इस चिकित्सक ने फिर मनौरी बाजार के पूरामुफ्ती साइड में अपना क्लीनिक खोल रखा है जहॉ मरीज लूटे जा रहे है। 


भाई की फर्जी डिग्री का प्रयोग कर अधिकारियो को झासा देकर बीते तीन दशक से मरीजो को लूटने वाले इस लुटेरे चिकित्सक की करतूत के हिस्सादार स्वास्थ्य विभाग के आलाधिकारी भी है इस चिकित्सक की करतूत से सैकडो लोग जीवन मौत के बीच जूझ रहे है मुलायम सिंह से नजदीकी बताने वाले इस लुटेरे चिकित्सक पर मुख्य चिकित्साधिकारी के मेहरबानी के मामले में यदि सूबे के मुख्यमंत्री योगी ने सूक्ष्म जॉच करायी तो चिकित्सक के साथ साथ स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारो के गुनाह भी उजागर होना तय है लेकिन भ्रष्टाचार के आतंक में डूबा स्वास्थ्य विभाग इस मामले में निष्पक्ष रिर्पोट योगी सरकार तक पहुचा पायेगा यह बडा सवाल हैं।