कर्नाटक पर ममता: मंगलूरू हिंसा पीड़ितों को तृणमूल सरकार ने दिया 5लाख का मुआवजा


मंगलूरू हिंसा में मारे गए दो लोगों के परिवार से मिलने के लिए तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) का एक प्रतिनिधिमंडल कर्नाटक के मंगलूरू पहुंचा। पार्टी के वरिष्ठ नेता दिनेश त्रिवेदी ने पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई हिंसा में मारे गए पीड़ितों के परिवार को पांच लाख रुपये के मुआवजा का चेक दिया। 19 दिसंबर को नागरिकता कानून के विरोध में मंगलूरू में हिंसा भड़की थी।


कर्नाटक की येदियुरप्पा सरकार ने पहले मंगलूरू हिंसा में मारे गए दो लोगों को परिजनों को मुआवजा देने की घोषणा की थी। हालांकि बाद में येदियुरप्पा सरकार अपने फैसले से मुकर गई। जिसे लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को भाजपा पर निशाना साधा। ममता ने कहा कि भाजपा अपने वादे पूरी नहीं करती है। उन्होंने घोषणा की कि उनकी सरकार मारे गए लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये मुआवजे के रूप में देगी। 


कर्नाटक सरकार ने बुधवार को अपनी घोषणा को रद्द करते हुए मंगलूरू हिंसा में मारे गए दो लोगों के परिजनों को मुआवजा देने से इनकार कर दिया। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि मंगलूरू में पुलिस की गोलीबारी में मारे गए दो लोगों के परिजन को 10-10 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने के फैसले को वापस लिया गया है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा था कि यदि जांच में 19 दिसंबर को प्रदर्शनों में हुई हिंसा में दोनों लोगों की संलिप्तता साबित होती है तो उनके परिवारों को एक भी रुपया नहीं दिया जाएगा। 
मुंबई में कांग्रेस ने की रैली


मुंबई में कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी के खिलाफ रैली निकाली।
सर्बानंद सोनोवाल ने निकाली चार किलोमीटर की रैली


भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और राज्य मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने जगीरोड, मोरीगांव में चार किलोमीटर की रैली निकाली।