साल की आखिरी 'मन की बात', नए साल की शुभकामनाओं के साथ पीएम मोदी का संबोधन शुरू, बोले हमारे युवा अराजकता के खिलाफ, इनसे देश को बहुत उम्मीद

नई दिल्ली ।     इस साल के आखिरी मन की बात को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकता कानून को लेकर हुई हिंसा पर चिंता जाहिर की। उन्होंन कहा कि हमारे देश के युवा अराजकता के खिलाफ हैं। इनसे देश को बहुत उम्मीद है। पीएम मोदी ने कहा कि  2019 की विदाई के पल हमारे समाने हैं, अब हम न सिर्फ नए साल में प्रवेश करेंगे, बल्कि नए दशक में प्रवेश करेंगे। इसमें देश के विकास को गति देने में वे लोग सक्रिय भूमिका निभाएंगे, जिनका जन्म 21वीं सदी में हुआ है। बता दें कि 16 दिसंबर को प्रधानमंत्री मोदी ने इसके लिए जनता से विचार आमंत्रित किए थे। उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि इस महीने मन की बात 29 दिसंबर को होगी। आप इसके लिए अपने विचार और सुझाव साझा करें।