टीडब्ल्यूयू कमेटी मीटिंग : सदस्य बोले-अध्यक्ष ने खराब ग्रेड रिवीजन कराया

टाटा वर्कर्स यूनियन की कमेटी मीटिंग में विपक्ष ने सत्ता पक्ष खासकर अध्यक्ष को ग्रेड रिवीजन समझौता पर घेरने के लिए हमलावर रहा। हालांकि, अध्यक्ष आर रवि प्रसाद ने विपक्ष के एक-एक सवाल का जवाब देकर धार को कुंद करने का प्रयास किया। कमेटी मीटिंग में विपक्ष ने हमलावर रुख अख्तियार करते हुए अध्यक्ष पर आरोप लगाया कि वे बेहतर ग्रेड रिवीजन समझौता कराने में विफल रहे। समझौते की अवधि छह साल से बढ़ाकर सात साल कर दी, लेकिन एमजीबी पिछले ग्रेड रिवीजन के मुकाबले 18.25 प्रतिशत से कमकर 12.75 प्रतिशत कर दिया। एनएस ग्रेड इस ग्रेड रिवीजन समझौते से सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। डीए प्रति प्वाइंट तीन रुपये की दर को बढ़ाने में नाकाम रहे। कमेटी मेंबर आशीष कुमार ने कहा कि टॉप थ्री ने कलिंगानगर से भी खराब ग्रेड रिवीजन समझौता कराया। कई सुविधाओं के दाम बढ़ा दिए गए हैं। कमेटी मीटिंग में ग्रेड रिवीजन समझौता के अलावा कई अन्य मुद्दे भी उठाए गए। अध्यक्ष ने दिया बिंदुवार जवाब: अध्यक्ष आर रवि प्रसाद ने आरोपों पर कहा कि उन्होंने विषम परिस्थितियों में भी बेहतर समझौता कराने का प्रयास किया। उन्होंने हाउस से पूछा 18.25 प्रतिशत से पहले ग्रेड रिवीजन में 23 प्रतिशत, इसके पहले 33 प्रतिशत एमजीबी मिला था। हर बार एमजीबी कम हुआ, लेकिन एमजीबी की राशि में हमेशा वृद्धि होती रही। मसलन पिछले ग्रेड रिवीजन में 18.25 प्रतिशत एमजीबी होने पर भी राशि 4000 रुपये था, जबकि इस बार 12.75 प्रतिशत एमजीबी पर राशि 8500 रुपये है।