उत्तर प्रदेश: नागरिकता कानून पर विरोध-प्रदर्शन के दौरान हिंसा में मरने वालों की संख्या अबतक 19 एवं 1113 लोग हुए गिरफ्तार


नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में बीते दिनों प्रदेश के कई जिलों में हुई हिंसा और तोड़फोड़ में अब तक 327 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। डीजीपी मुख्यालय के अनुसार इन मुकदमों में नामजद 1113 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं इस दौरान मरने वालों की संख्या 19 बताई गई है।  पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि 288 पुलिसकर्मी इन हिंसाओं में घायल हुए हैं, जिसमें से 61 पुलिस कर्मियों को अवैध असलहों से चली गोली लगी है।


संभल में हिंसा के दौरान एक दरोगा की पिस्टल छीने जाने की भी रिपोर्ट दर्ज की गई है। हिंसा में जो नुकसान हुआ है, उसकी क्षतिपूर्ति के लिए पूरे प्रदेश में अब तक 498 प्रदर्शनकारियों को वसूली का नोटिस जारी किया जा चुका है।


सबसे अधिक 148 मेरठ में, 82 लखनऊ, 79 रामपुर, 73 मुज्फ्फरनगर, 50 कानपुर नगर, 26 संभल, 19 बुलंदशहर, 13 फिरोजाबाद और मऊ में आठ प्रदर्शनकारियों को चिह्नित कर वसूली के लिए नोटिस जारी किया गया है। इसकी एक रिपोर्ट शासन को भी भेजी गई है। जारी किए गए नोटिस में आयोजकों को तीन दिन में अपना पक्ष रखने को कहा गया है।
सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले 124 गिरफ्तार


सीएए के विरोध में आपत्तिजनक और भ्रामक पोस्ट करने वालों पर कार्रवाई का सिलसिला भी जारी है। व्हाट्सएप, ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर आपत्तिजनक मैसेज, फोटो और वीडियो अपलोड करने के मामले में 93 एफआईआर दर्ज करते हुए 124 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। कुल  19409 सोशल मीडिया पोस्ट के खिलाफ रिपोर्ट की गई है।