योगी सरकार का AMU पर एक्शन

AMU के 10,000 अज्ञात छात्रों के खिलाफ केस दर्ज।


नागरिकता कानून के खिलाफ हुए प्रदर्शन और दंगों के बाद यही कहा जा रहा था कि यह सब जाहिलों और अनपढ़ गवारों ने किया है लेकिन असल में सच कुछ और ही है।
क्योंकि इसमें वह कथित बुद्धिजीवी छात्र भी शामिल थे जो शिक्षा के मंदिर में ज्ञान की अलख जगाने की बात तो करते हैं लेकिन इनके अंदर कुछ और ही चलता है। यह छात्र वैज्ञानिक, टीचर और डॉक्टर बनने की तालीम लेने तो आते हैं मगर इनके दिल और दिमाग में सिर्फ और सिर्फ एक ही ज्ञान रहता है। वह ज्ञान क्या है यह नागरिकता कानून के खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान एएमयू और जामिया के छात्रों ने जो किया उसमें साफ देखने को मिला था।
जिसमें एएमयू के छात्रों ने दीवारों पर खिलाफत 2.O के पोस्टर और हिंदुत्व की कब्र खोदने के नारे लगाए थे.....
( नारा था - हिंदुओं की कब्र खुदेगी एएमयू की धरती पर) 


छात्रों के नाम का चोला पहनने वाले यह लोग एएमयू में हिंदुत्व की कब्र खोदने की बात कर रहे हैं और देश में धार्मिक जहर घोल कर दो समुदायों के बीच नफरत की दीवार खड़ी करने का काम कर रहे हैं।
लेकिन इन्हें यह नहीं पता था कि जहां खड़े होकर यह हिंदुओं की कब्र खोदने की बात कर रहे हैं वहां का मुखिया खुद भगवाधारी है और जब योगी एक्शन में आएंगे तो इनकी सारी हेकड़ी निकल जाएगी।
और अब ऐसा देखने को भी मिला है क्योंकि योगी ने देश को बांटने वाले गद्दारों पर अपना डंडा चला दिया है। बता दें कि नागरिकता कानून के विरोध प्रदर्शन की आड़ में एएमयू में हिंसा देखने को मिली पढ़ाई का ढोंग दिखाने वाले इन छात्रों ने खूब हंगामा किया था वहीं अब हिंसा के मामले में योगी सरकार ने कड़ा एक्शन लेते हुए एएमयू के 10000 अज्ञात छात्रों के खिलाफ मामला दर्ज किया है साथ ही सीएम योगी ने ट्वीट करके यह बता दिया है कि जो योगी सरकार ने उपद्रवियों के खिलाफ जो फैसला लिया है वह वापस नहीं लिया जाएगा।
योगी सरकार की ओर से ट्वीट करके यह लिखा गया है की..... 
" हर दंगाई हतप्रभ है।
  हर उपद्रवी हैरान है।
  
  देखकर योगी सरकार की शक्ति मंसूबे सभी के शांत है।


कुछ भी कर लो अब, क्षतिपूर्ति तो क्षति करने वाले से ही होगी यह योगी जी का ऐलान है।


हर हिंसक गतिविधि अब रोएगी क्योंकि यूपी में योगी सरकार है।


यानी कि योगी सरकार ने साफ कर दिया है कि जो लोग कानून के विरोध की आड़ में हिंसा में शामिल थे उन पर कतई भी रहम नहीं किया जाएगा।