किसानों का नुकसान हुआ तो उग्र आंदोलन करेगी सकिपा

कौशाम्बी। सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ उपजिलाधिकारी और सकीपा के नेताओं की हुई बैठक में किसानों के खेत तक पानी पहुंचाने की व्यवस्था पर बनी सहमति


समर्थ किसान पार्टी के नेता अजय सोनी ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को किसानों के साथ  हो रहे नुकसान को लेकर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी है। पार्टी नेता अजय सोनी ने तहसील कार्यालय सिराथू में आयोजित की बैठक में साफ शब्दों में कहा कि नहर का पानी बरबादी का सबब न बने,इसकी जिम्मेदारी सिचाई विभाग की है। आगे से किसी किसान के खेत की फसल जलमग्न हुई तो उस किसान के नुकसान का सीचाई विभाग से हर्जाना वसूला जाएगा।
साथ ही रोस्टर से नहरों में पानी की आपूर्ति की जाए और नहरों में टेल तक जलापूर्ति होने के साथ किसानो के खेत तक जलापूर्ति हो, सिंचाई विभाग की यह जिम्मेदारी है और विभाग को इस पर अमल करना पड़ेगा।
रामगंगा नहर के सहायक अभियंता मनोज कुमार वर्मा एवं अवर अभियंता संजय सिंह के साथ सिराथू उपजिलाधिकारी राजेश कुमार श्रीवास्तव और किसान नेता अजय सोनी के बीच करीब दो घंटे तक चली वार्ता में कई अन्य बिंदुओं पर अजय सोनी ने अपनी बात रखी। विभाग के अधिकारियों को अजय सोनी ने तत्काल नाली एवं कुलाबो को दुरुस्त करने की बात कही ताकि टेल तक जलापूर्ति होने के साथ ही किसानों के खेत तक जलापूर्ति हो सके। इसी के साथ नहरों में गेट दुरुस्त कराने, समुचित मरम्मत कराने, अधिकारियों द्वारा समय समय पर नहरों का निरीक्षण करने एवं सम्बन्धित अधिकारियों एवं सींच पालों के स्थाई नंबर नहर के गेटों पर अंकित करने जैसी अन्य कई मांगों पर चर्चा हुई। साथ ही रजबहों की समुचित खुदाई और उनमें रोस्टर से जलापूर्ति करने और किसानों के खेत तक पानी पहुंचाने की व्यवस्था करने पर भी वार्ता की गई। इस अवसर पर करारी माइनर के सहायक अभियंता राजेश कुमार से भी दूरभाष पर वार्ता कर अजय सोनी ने सभी बिंदुओं पर समयबद्ध कार्यवाही किए जाने की आवाज बुलन्द की, साथ ही करारी माइनर के हाल में मानक के विपरीत बनाए गए पुलों एवं करारी माइनर नहर के रजबहों कि मानक के विपरीत हुई खुदाई एवं मरम्मत कार्य की समुचित जांच कराने की मांग की गई और लापरवाही करने पर विभाग के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दी गई।
इस अवसर पर उपरोक्त लोगो के साथ दिलीप तिवारी, चन्द्र प्रकाश पाण्डेय, राधे श्याम,अशोक पटेल,  विनय मौर्य आदि लोग मौजूद रहें।