नही बर्दाश्त होगा बिजली का निजीकरण-जेई

विभिन्न मांगों को लेकर विद्युत कर्मियों ने किया कार्य बहिष्कार। 


कौशाम्बी। विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले बुधवार को जिला मुख्यालय स्थित डिवीजन कार्यालय में एक दिवसीय कार्य का बहिष्कार किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता अवर अभियंता मंझनपुर विनम्र पटेल ने किया। उपस्थित विद्युत कर्मियों को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बिजली का निजीकरण किसी भी कीमत पर उनका संगठन बर्दाश्त नहीं करेगा। कहा कि निजीकरण की दृष्टि से इलेक्ट्रिक सिटी एक्ट 2003 में किये जाने वाले समस्त संशोधन वापस किये जायें। श्रम कानून में किये जा रहे समस्त प्रतिभागी संशोधन वापस लिये जाने चाहिए। बिजली कर्मचारियों की वेतन विसंगतियों का तत्काल निराकरण किया जाये। पुरानी पेंशन बहाल की जाये। बिजली कर्मचारियों के रिक्त पदों पर नियमित भर्ती की जाये और विद्युत कर्मियों को वरीयता दी जाये। सहित ग्यारह सूत्रीय मांगों को लेकर कर्मियों ने बुधवार को कार्य बहिष्कार करते हुए एक दिवसीय धरना प्रदर्षन किया। इस मौके पर मुरलीधर, अविनाष अग्रहरि, सौरभ मौर्य, वीके तिवारी, गौरव श्रीवास्तव, महेंद्र वर्मा, ज्वाला यादव, अंकित कुमार, धीरज यादव, प्रभात कुमार, योगेन्द्र, वरूण कुमार, विकास आदि विद्युत कर्मचारी उपस्थित रहे।