साधना अस्पताल का संचालन फर्जी तरीके से चलता आ रहा है लेकिन कोई कार्यवाही नही करना वहदत है क्यों मेहरबान है सम्बंधित अधिकारी

कौशाम्बी। जनपद मुख्यालय से सटे समदा चौराहे पर नहर रोड पर बीते कई वर्षो से साधना नर्सिग होम का संचालन किया जा रहा है। इस अस्पताल में प्रत्येक महीने में 4 सौ से अधिक मरीजो का ईलाज और उन्हे भर्ती किया जाता है। लेकिन मुख्यालय से सटे समदा में अस्पताल के संचालन का रजिस्ट्रेशन स्वास्थ्य विभाग में नही है इस अस्पताल के संचालक संजय मौर्या सहित अन्य कर्मियो के पास चिकित्सा की डिग्री भी नही है। लेकिन फिर भी जनपद मुख्यालय में अस्पताल का संचालन बेखौफ तरीके से हो रहा है। आधा दर्जन बेड लगाकर अकुशल लोगो द्वारा मरीजो को झासा देकर उनके परिजनो से वसूली का यह खेल पिछले आठ दस सालो से चल रहा है। दस वर्षो के बीच इस अस्पताल में इलाज के दौरान अब तक सैकडो मरीजो की मौत हो चुकी है। बीते दिनो मरीजो के इलाज के अभिलेखो को भी इस अस्पताल द्वारा नष्ट कर दिया गया है। इस बीच कई सीएमओ ने चार्ज लिया और वह बदले भी गये लेकिन अस्पताल संचालक के अवैध कारनामो पर किसी सीएमओ की नजर नही गयी। या फिर किसी निजी लाभ के चलते अस्पताल संचालक पर कार्यवाही करने का साहस स्वास्थ्य विभाग नही कर रहा है। यह जॉच का विषय है और इस मामले में यदि जॉच हुयी तो अस्पताल संचालक के साथ साथ स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारो पर गाज गिरना तय है।