आरक्षित खिडकिया बनाने का सरकारी ढकोसला क्यों

रेलवे और स्वास्थ्य विभाग की एकल खिडकी में लगती है कई कई लाइने


कौशाम्बी। रेलवे स्टेशन का टिकट काउन्टर हो या स्वास्थ्य केन्द्रो के पर्चा बनने की खिडकी हो सरकार द्वारा कई कई खिडकी खोली गयी है लेकिन अन्य खिडकियो को बन्द कर एक खिडकी पर ही रेलवे टिकट जारी किये जाते है 


यही हाल स्वास्थ्य विभाग का भी है। जहॉ एक खिडकी से ही पर्ची बनायी जाती है और इसी एकल खिडकी पर महिला वृद्ध जनो को किनारे से लगाकर उन्हे टिकट और पर्ची देने में प्राथमिकता दे दी जाती है जिससे नियम के तहत लाइन में लगकर टिकट और पर्ची लेने वालो को दिक्कतो से जूझना पडता है


 आखिर जब महिला वृद्ध विकलांग या अन्य लोगो को सरकार ने सुविधा उपलब्ध करायी है और उन्हे प्राथमिकताओ पर सरकारी कार्यो में उनके कार्यो का निस्तारण किये जाने का नियम है और इसके लिए प्रत्येक रेलवे स्टेशन और अस्पतालो में कई खिडकिया बनायी गयी है। प्रत्येक स्थानो पर आरक्षित खिडकिया अलग है लेकिन वह अक्सर बन्द रहती है। तो फिर आरक्षित खिडकिया बनाने का सरकारी ढकोसला क्यों।