बनते ही जर्जर हो गया करोडो का भवन

कौशाम्बी। जनपद मुख्यालय मंझनपुर में कुछ वर्षो पूर्व कृषि विभाग द्वारा एक प्रयोगशाला भवन का निर्माण कराया गया था। इस भवन के निर्माण में करोडो रूपये की भारी भरकम धनराशि सरकारी खजाने से कार्यदायी संस्था को अवमुक्त कर दिया गया था।


 लेकिन जिम्मेदार अधिकारियो ने कार्यदायी संस्था पर दबाव डालकर कमीशन के नाम पर मोटी रकम वसूल ली जिसके चलते कार्यदायी संस्था ने भी घटिया निर्माण कर भवन खडा कर दिया। भवन बनते ही लोगो ने निर्माण की गुणवत्ता पर सवाल उठाये और शासन को पत्र भेजकर कार्यवाही की मांग की लेकिन शिकायती पत्र पर कार्यदायी संस्था के जिम्मेदार भारी पडे और शिकायती पत्र को फर्जी रिर्पोट लगाकर निस्तारित कर दिया गया। कृषि प्रयोगशाला के इस भवन को बने अभी कुछ ही वर्ष हुऐ है पूरे भवन की दिवाल का प्लास्टर उखड रहा है। जमीन की फर्श टूट चुकी है दिवालो में जगह जगह दरारे पड कर फट चुकी है। इस भवन के निर्माण में आरसीसी की छते डाली गयी थी लेकिन वह भी फट चुकी है और इस गर्मी के मौसम में भी कृषि प्रयोगशाला के भवन की छतो से पानी टपक रहे है कार्यालय में बैठने वाले कर्मचारियो को पानी टपकने के स्थान पर बाल्टी रखनी पड रही है। जिससे इस भवन के निर्माण की गुणवत्ता का अंदाजा लगाया जा सकता है। लेकिन क्या सपा सरकार में बनाये गये इस भवन की गुणवत्ता योगी सरकार में कराकर भ्रष्ट कार्यदायी संस्था के जिम्मेदारो को योगी सरकार जेल भेज पायेगी। यह व्यवस्था पर बडा सवाल है।