गोदाम या एजेंसी से सिलेंडर उठाते ही शुरू हो जाएगी निगरानी

एलपीजी  सेल्स के अधिकारियों ने बताया कि हॉकर जैसे ही गोदाम या एजेंसी से सिलेंडर उठाएगा, उसकी ट्रैकिंग शुरू हो जाएगी। सिलेंडर उठाने के बाद वह कहां-कहां गया और किसको दिया। इसकी ऑनलाइन निगरानी होती रहेगी। वह जिस उपभोक्ता को सिलेंडर देंगा, उसकी रसीद पर छपे बार कोड को वह मोबाइल एप से स्कैन करेगा। इससे पता चलेगा कि उन्होंने कितने समय में सिलेंडर की डिलीवरी की। अगर कहीं सिलेंडर को रखकर घटतौली किया तो उसकी भी लोकेशन एप में रिकार्ड हो जाएगी। अधिकारियों ने बताया कि जिले की सभी 135 एजेंसियों के हॉकरों के मोबाइल में इंस्टाल कर दिया गया है। सिलेंडर की डिलीवरी में जो हॉकर इस एप को नहीं चलाएंगे, उन पर कार्रवाई की जाएगी।