जिला अधिकारी महोदय के गोद लिए हुए गाँव की दलित बच्चों बच्चियों से करवाया जा रहा है बालश्रम ।

कौशाम्बी। मोअज्जमपुर पोस्ट करारी तहसील मंझनपुर जनपद कौशाम्बी के गरीब दलित बस्ती है ।वहाँ लगभग 15वर्षों से गाँव के ही दबंग व्यक्तियों ने  बच्चों एवं बच्चियों से  करवाते हुए हैं बालश्रम ।


गाँव  के ही व्यक्ति अंगद सिंह पुत्र बच्चा सिंह  हैं जो लगभग 7किमी0 दूर  बन्धुरी गाँव ले जाकर बच्चों एवं बच्चियों से बालश्रम करवा रहे थे तभी वहां कई पत्रकार मौके पर पहुँचे तो कुछ बच्चे  सरसों के खेत में गुस कर भाग निकले और बच्चियों से पूछा गया  तो कई बच्चियाँ बतायी हैं कि स्कूल जाती हैं ।


 सरकार स्कूल में मुक्त में खाना,फल,कापी, ड्रेस,फ्री पढ़ाई के लिए बच्चों की सहायता करती है लेकिन कुछ काम करने वाली महिलाओं ने योगी सरकार को बदनाम करने के लिये उन्होने कहा कि कुछ भी नहीं मिलता है स्कूल में ।


सवाल यह उठता है कि जिला अधिकारी महोदय के गोद लिए हुए गाँव में गाँव के ही दबंग व्यक्ति  जो बच्चियों से बालश्रम करवाते हुए मिले हैं उनके खिलाफ कार्यवाही करते हैं या नहीं ।


कानून के अनुसार 14वर्ष से कम उम्र के बच्चों एवम् बच्चियों को किसी भी व्यवसाय में नियुक्त करना या बालश्रम करवाना अपराध की श्रेणी में आता है ऐसा करने पर सम्बधित व्यक्ति के विरुद्ध कठोर कार्यवाही का प्रावधान है इसके बावजूद यहां बच्चियों से कार्य करवाया जा रहा है ।
क्या ये लोग योगी सरकार  को बदनाम करके ही मानेगे ।योगी सरकार साफ साफ नारा देती है कि *बेटी बचाओ।बेटी पढ़ाओ ।
देखना ये है कि जिला अधिकारी के अपने गोद लिए हुए गाँव के बचियों को  क्या स्कूल भेज पायेंगे ।बेटी बचाओ ।बेटी पढ़ाओ।।नारा सफल बनाएँगे ।