मंडलायुक्त ने बेल्थरारोड तहसील का किया मुआयना

अविवादित मामले भी लंबित मिलने पर दी चेतावनी



बेल्थरारोड(बलिया)। मंडलायुक्त कनक त्रिपाठी ने गुरुवार को स्थानीय तहसील का निरीक्षण किया। इस दौरान तहसीलदार कोर्ट में काफी फाइलें लंबित होने पर नाराजगी व्यक्त की और पेशकार को तुरंत वहां से हटाने का निर्देश दिया।


 उन्होंने एसडीएम के कार्य की तो सराहना की, पर अधीनस्थ अधिकारियों और कर्मचारियों के कार्य की भी मॉनिटरिंग करते रहने के निर्देश दिए। तहसील के निरीक्षण के दौरान फाइलों के रखरखाव और वादों के निस्तारण पर कमिश्नर का विशेष जोर रहा। उन्होंने पाया कि तहसीलदार कोर्ट में दाखिल-खारिज के काफी ऐसे मामले हैं जिनमें कोई विवाद ही नहीं है। कुछ ऐसे भी मामले मिले जिनमें बिना किसी साक्ष्य के आपत्ति की गई थी। इस पर कमिश्नर ने नाराजगी जताते हुए कहा कि अविवादित मामलों का तत्काल निस्तारण किया जाए। बिना साक्ष्य के कोई आपत्ति मिले तो उसे भी तत्काल खारिज कर दें। कमिश्नर ने कहा कि अनावश्यक लंबित मामलों में एसडीएम- तहसीलदार की भी जवाबदेही तय होगी। इसलिए कोर्ट का काम सिर्फ पेशकार के भरोसे ही ना छोड़ें। सीमांकन से जुड़े वाद भी काफी समय से लंबित मिले, जिसे निपटाने का निर्देश दिया। दाखिल खारिज का एक मामला चार साल से लंबित था, जिसमें कानूनगो की रिपोर्ट लगने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। इस पर कमिश्नर ने तहसीलदार को कड़ी चेतावनी दी। साथ ही ऐसे कुछ मामलों की पत्रावली अपने साथ लेती गयीं। माना जा रहा है कि इसका विधिवत परीक्षण करने के बाद जिसकी लापरवाही पाई जाएगी, उस पर कार्रवाई होगी।


 निरीक्षण के दौरान कुछ शिकायतकर्ताओं ने तहसीलदार की शिकायत की, जिसकी जांच कर रिपोर्ट देने का निर्देश अपर आयुक्त, आजमगढ़ मंडल को दिया गया। निरीक्षण के दौरान सीडीओ बद्रीनाथ सिंह, एसडीएम राजेश यादव साथ थे।