ओवरलोड रोकने में नकारा साबित हुए सीसीटीवी कैमरे

कौशाम्बी। जिले में संचारित यमुना बालू घाटों से हो रही ओवरलोडिंग को रोकने के लिए जिले में 39 स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। जिसमें 35 सीसीटीवी कैमरे बंद चल रहे हैं। जबकि चार स्थानों पर कैमरे काम कर रहे हैं प्रदेश सरकार द्वारा वाहनों में ओवरलोडिंग रोकने के लिए जिले में 3 लाख 27हजार  खर्च कर 39 स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा स्थापित किया गया है। लेकिन सभी कैमरे बंद होने के बाद  मौके पर जीण सींर्ण व्यवस्था में चार कैमरा  काम कर रहे हैं।  लेकिन इनको भी देखने वाला कोई भी व्यक्ति  तैनात नहीं है ।पुलिस अधीक्षक कार्यालय को सीसीटीवी कैमरे जिले के मुख्य चौराहों पर लगाकर संचालित करने की जिम्मेदारी दी गई थी। लेकिन आज तक कोई भी कर्मचारी इन बंद कैमरों की तरफ ध्यान नहीं दे रहा है। कैमरों के  बंद होने से जहां ओवरलोडिंग वाहनों में धाड़ले से हो रही है। वहीं पर आए दिन लूट की घटनाओं को अंजाम देकर बदमाश फरार हो रहे हैं ।आला अधिकारियों की  लापरवाही से  सरकार को करोड़ों का राजस्व नुकसान हो रहा है वहीं पर मार्ग भी गड्ढों में तब्दील हो रहें है। पुलिस अधीक्षक अभिनंदन सिंह ने सीसीटीवी कैमरे स्थापित करने वाले सीसीटीएन एस को बुलाकर  तत्काल सही कराने का निर्देश दिया। जिले के आला अधिकारी अभी भी लापरवाह है।