हत्यारो की गिरफ्तारी पर अडे ग्रामीण

कौशाम्बी। मंझनपुर कोतवाली के समदा गांव में पांच मार्च की रात को उमेश सरोज उम्र 30 वर्ष पुत्र अमरनाथ को चाकूओ से गोदकर मौत के घाट उतार दिया गया था। घटना के दूसरे दिन भी मुख्य अभियुक्त साहबेआलम को पुलिस पकड नही सकी है। 


जिससे आक्रोशित होकर मृतक के परिजनो ने समदा चौराहे पर चक्का जाम कर दिया। धरना प्रदर्शन नारेबाजी कर परिजनो ने उमेष के हत्यारो को पकडने की मांग की है। धरना प्रदर्शन के चलते काफी देर तक यातायात बाधित रहा 


आन्दोलन की जानकारी मिलते ही मौके पर आलाधिकारी पहुचे और परिजनो ग्रामीणो को समझा बुझाकर सडक से जाम हटवाया है। बतादे कि उमेश सरोज की पत्नी का साहबेआलम से शारीरिक सम्बन्ध है उमेष पत्नी की हरकत का विरोध करता था। जिससे उमेश को रास्ते से हटा दिया गया। लेकिन उमेष की पत्नी और साहबेआलम द्वारा मिलकर उमेश की हत्या करने की बात पच नही सकी और सार्वजनिक हो गयी।