कमलनाथ सरकार में चार गुना बढ़े शिक्षित बेरोजगार, सिर्फ 34 हजार को मिला रोजगार

विधानसभा चुनाव के दौरान जारी अपने घोषणापत्र में युवाओं को चार हजार रुपये मासिक बेरोजगारी भत्ता देने का वादा भी किया था कांग्रेस ने


भोपाल ।     मध्यप्रदेश में पिछले एक साल में पंजीकृत शिक्षित बेरोजगारों की तादात सात लाख से बढ़कर 28 लाख पहुंच गई है। वहीं, इस दौरान केवल 34 हजार युवाओं को रोजगार मिला है। यह जानकारी मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को विधानसभा में दी। इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के अनुसार, एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने बताया कि बेरोजगार युवाओं की तादात और बढ़ सकती है क्योंकि बड़ी संख्या में युवाओ ने नौकरी की आस में पंजीकरण करवाया है।  बता दें कि कांग्रेस ने पिछले साल विधानसभा चुनाव के दौरान जारी अपने घोषणापत्र में युवाओं को चार हजार रुपये मासिक बेरोजगारी भत्ता देने का वादा भी किया था। माना जा रहा है कि इससे भी शिक्षित बेरोजगार युवा बड़ी संख्या में पंजीकरण करवा रहे हैं। हालांकि सरकार ने बेरोजगारी भत्ता देने का वादा अभी तक पूरा नहीं किया है। इस संबंध में सरकार ने विधानसभा में कहा था कि अभी इस तरह के किसी भी प्रस्ताव पर विचार नहीं किया जा रहा है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि अक्तूबर 2018 में मध्यप्रदेश में पंजीकृत शिक्षित बेरोजगारों की संख्या 20,77,222 थी और अक्तूबर 2019 में यह 27,79,725 है। कमलनाथ ने कहा कि पिछले एक साल में आयोजित एक नौकरी मेले (जॉब फेयर) में 17,506 युवाओं को नौकरी के लिए चुना गया जबकि प्लेसमेंट ड्राइव के दौरान 2,520 युवाओं को नौकरियां दी गईं। कमलनाथ ने यह भी कहा कि उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद राज्य में 25 नए उद्योगों की स्थापना हुई जिससे 13,740 नौकरियां दी गईं।


Popular posts
अखिल भारतीय जायसवाल सर्ववर्गीय महासभा द्वारा दिल्ली में केंद्रीय मंत्री श्रीपाद यशो नायक के दीर्घायु के लिए महामृत्युंजय जाप किया गया
Image
सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को नारदा घोटाला मामले में आरोपी टीएमसी नेताओं को नजरबंद करने के कलकत्ता हाईकोर्ट के फैसले में दखल देने से इनकार कर दिया
Image
मौसी के घर रह रहे बालक की बुधवार को मौसा ने हत्या कर गांव के ही कब्रिस्तान में शव दफनाया
Image
नाबालिग बेटी बोली जब से लॉकडाउन हुआ है तब से पिता रोजाना जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाता है
Image
उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद शैक्षणिक कैलेंडर जारी
Image