नए साल का पहला दिन ही होगा भारी, हांगकांग में चीन के लोगों के लिए बढ़ती जा रही है नफरत


बीजिंग । हांगकांग को लेकर चीन की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। करीब सात माह से लगातार जारी हिंसक विरोध-प्रदर्शनों की बदौलत हांगकांग ही नहीं चीन की भी अर्थव्‍यवस्‍था पटरी से उतरती दिखाई दे रही है। वहीं अब प्रदर्शनकारियों ने चीन के खिलाफ एक जनवरी को बड़ी रैली आयोजित करने की घोषणा कर दी है। इसके अलावा हांगकांगवासियों में चीन के लोगों के प्रति नफरत भी बढ़ती जा रही है। यही वजह है कि यहां पर चीन के व्‍यवसायियों हांगकांग छोड़ो का नारा हर जगह गूंज रहा है। यह नारा चीन के लिए अब तक की सबसे बुरी स्थिति साबित हो रहा है। यह साफतौर पर हांगकांग में चीन सरकार और उसके मूल निवासियों के लिए पनप रही नफरत का सीधा संकेत दे रहा है। आपको यहां पर ये भी बता दें कि हांगकांग में जारी प्रदर्शनों के बीच बड़ी संख्‍या में चीन के मूल नागरिक और चीनी छात्र यहां से जा चुके हैं।  


बाहर जाएं चीनी व्‍यवसायी 


आलम ये है कि जून में जो प्रदर्शन एक विधेयक के विरोध में शुरू हुआ था वो अब हांगकांग की आजादी और चीन को यहां से बाहर खदेड़ने तक जा पहुंचा है। इस बार हांगकांग में क्रिसमस के मौके पर भी विरोध प्रदर्शनों का ही शोर हर जगह सुनाई दिया था। चीन की सीमा से लगते श्‍योंग सुई में शनिवार को बड़ी संख्‍या में लोग एकत्रित हुए और उन्‍होंने चीन व्‍यवसायियों के वहां से चले जाने की मांग करते हुए नारेबाजी की। हालांकि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से निपटने के काफी पुख्‍ता इंतजाम किए थे। प्रदर्शनकारियों को पहचानने के लिए सादे कपड़े में  पुलिस तैनात की गई थी। यही वजह थी कि चीन के खिलाफ हो रहे इस प्रदर्शन के दौरान काफी लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। इस दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प भी हुई। सरकारी आंकड़ों की मानें तो बीते छह माह के दौरान पुलिस ने करीब सात हजार प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है। इनमें सबसे कम उम्र का प्रदर्शनका‍री 12 वर्ष की आयु का है।  


 

देशों की बयानबाजी से नाराज चीन 


जहां तक चीन की बात है तो आपको बता दें कि उसकी चिंता का सबब केवल यहां पर हो रहा प्रदर्शन ही नहीं है, बल्कि प्रदर्शनकारियों के समर्थन में उतरे कुछ देशों का बयान भी है। प्रदर्शनकारियों के समर्थन में बयान देने वालों में ब्रिटेन और अमेरिका प्रमुख हैं। वहीं चीन ने भी इन देशों के लिए तीखी प्रतिक्रिया दी है। चीन ने हांगकांग की स्थिति को उनका आं‍तरिक मामला बताते हुए कहा है कि इसमें किसी भी दूसरे देश की दखलदांजी बर्दाश्‍त नहीं की जाएगी। जहां तक अमेरिका की बात है तो पहले से ही दोनों देशों के बीच व्‍यापार के मुद्दे पर कई बार तीखी बयानबाजी हो चुकी है।  


 

चीन-अमेरिका की नाराजगी


इतना ही नहीं हांगकांग में हो रहे प्रदर्शनों के बाद अमेरिका में हांगकांग मानवाधिकार एवं लोकतंत्र अधिनियम, 2019 बिल (Hong Kong Human Rights and Democracy Act) कानून लागू कर दिया है। इसको लेकर भी बीजिंग बौखलाया हुआ है। इसके अलावा एक दूसर विधेयक के द्वारा हांगकांग पुलिस को आंसू गैस, काली मिर्च, रबर बुलेट के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। इनका इस्‍तेमाल हांगकांग पुलिस प्रदर्शनकारियों पर कर रही है। इन कदमों के बाद चीन के राष्‍ट्रपति शी चिनफिंग ने अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप को फोन कर इस पर अपनी नाराजगी भी जाहिर की है। उनका कहना है कि ताइवान, हांगकांग, शिनजियांग और तिब्बत के बारे में अमेरिकी टिप्पणियां दोनों देशों के संबंधों को खराब कर रही हैं। 


 


Popular posts
राजस्थान में 11 और महाराष्ट्र-यूपी में पांच नए मामले, आज दो की मौत, 100 मरीज हो चुके हैं ठीक
मुख्य सचिव श्री राजेंद्र प्रसाद तिवारी जी से किसानों एवं किसान मित्र योजना को लेकर  वार्ता
रामजन्मभूमि निर्माण निधि महाअभियान के नाम पर फर्जीवाड़े का मामला, भाजपा नेताओं की तहरीर पर सिविल लाइंस पुलिस ने केस दर्ज
Image
उत्तर प्रदेश के बड़ौत के धरने पर रात के समय किसानों पर किए गए लाठीचार्ज के विरोध में आज बड़ौत तहसील में महापंचायत में रालोद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चैधरी भी शामिल होंगे
Image
यूपी के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने सरस्वती पुरम में बांटी राहत सामग्री
Image