तुलसी नीम गिलोय में है कोरोना वायरस को नष्ट करने की क्षमता

कौशाम्बी।  प्राचीन भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को अगर संरक्षित नहीं किया गया तो आगे आने वाली पीढ़ी को कोरोना वायरस से भी भयंकर महामारी से निपटना मुश्किल होगा इसलिए विदेशों द्वारा बनाई गई एलोपैथी वैक्सीन को छोड़कर हमें भारतीय चिकित्सा आयुर्वेदिक पद्धति को संरक्षित करना होगा नीम तुलसी गिलोय संजीवनी जड़ी बूटी के खजाने से देश की धरती भरी है


आयुर्वेद के जनक कहे जाने वाले वैद्यराज चरक सुश्रुत ने आयुर्वेद के गुणों के बारे में जो जानकारियां समाज को दिया था उसमें संजीवनी बूटी जैसी महान औषधियों का भी जिक्र किया था जो मरे ब्यक्ति को भी जिंदा कर देती थी दूषित खून को शुद्ध करने संक्रमण को समूल नष्ट करने की शक्ति नीम गिलोय में मौजूद है प्राचीन काल में भारत देश में आयुर्वेद के तमाम विख्यात वैद्य वैद्यराज के ज्ञान को अर्जित कर लोगों तक पहुंचाने की जरूरत है प्राचीन काल में आयुर्वेद पद्धति से भारतीय स्वस्थ्य रह कर हजारो वर्ष जीते थे देश की आयुर्वेद पद्धति को बढ़ाने के बजाय सरकारी तंत्र इस भारतीय खजाने को भूलती जा रही है जो  देश के लिए बड़ा चिंतन का विषय है 


आज भी देश की धरती पर तमाम ऐसी जड़ी बूटी है जो समाज में लोगों को स्वस्थ निरोगी रखने में कारगर हैं तुलसी नीम गिलोय दूब घास पीपल  अपराजिता बरगद गाय का गोबर काली मिर्च हरड़ जीरा बहेरा आंवला चिरायता  मकोय तेजपत्ता जायफल जावित्री  अफीम कलौंजी मुलेठी अपराजिता भांग सतावर  हल्दी  चोपचीनी शहद  वंश लोचन मन्दार  केशर कस्तूरी अकरकरा मयूर का अंडा चिचड़ी अपामार्ग पिपरमिंट सनाय मेथी दाना हड़जोड़ सहित तमाम महत्वपूर्ण आयुर्वेद औषधियों से भारत देश की यह धरती भरी पड़ी है


प्राचीन काल में आयुर्वेद में भारत विश्व गुरु था लेकिन चार सौ वर्ष पूर्ब लगभग विदेशी पद्धति के चकाचौंध में हम अपनी चिकित्सा पद्धति को भूल चुके हैं जिससे हमारी चिकित्सा पद्धति का ज्ञान लुप्त होता जा रहा है लेकिन इन जड़ी-बूटियों का ज्ञान सीमित लोगो तक है और सीमित क्षेत्र के लोग ही इसका लाभ उठाते हैं और अन्य लोग जड़ी बूटियों के ज्ञान लाभ से उपेक्षित हैं 


समाज के लोगों में आयुर्वेद का ज्ञान पहुंचाने की बेहद जरूरत है आयुर्वेद के महत्व की जानकारी लोगों तक पहुंचे इसके लिए सरकार को सार्थक प्रयास करने की जरूरत है आम जनता को आयुर्वेद के प्रति प्रेरित कर उन्हें आयुर्वेद के प्रति प्रोत्साहित करना यह सरकार का दायित्व है आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति की शुरुआत की जाए यह कम खर्चीली है और इस पद्धति से गरीबों का भी सस्ता और सुलभ इलाज आसानी से हो सकता है


 एलोपैथी के आगे पुरानी आयुर्वेद पद्धति को लोग भूलते जा रहे हैं जबकि आयुर्वेद पद्धति के बारे में कुछ लोगों को ही विशेष जानकारियां हैं इस पद्धति की खोज कराई जानी चाहिए और गांव क्षेत्र में जिन लोगों को आयुर्वेद की जानकारी है उन्हें प्रोत्साहित कर आगे बढ़ने का मौका दिया जाना चाहिए लेकिन किताबी डिग्री के आगे आयुर्वेद का ज्ञान रखने वालों को सरकार और उनके नुमाइन्दे महत्व नही देते जो चिन्ता का विषय है आयुर्वेद पद्धति की औषधियों से तो कोरोनावायरस से भी भयंकर वायरस को नष्ट करना सम्भव है कोरोना जैसे महामारी से नीम तुलसी गिलोय जैसी आयुर्वेद औषधि से इलाज कर महामारी से बचा जा सकता है 


आने वाली पीढ़ी को आयुर्वेद के बारे में भरपूर जानकारी हो जिससे वह विदेशी वैक्सीन का सहारा देश वासियों को ना लेना पड़े हमारे भारत देश की आयुर्वेद चिकित्सा सफल चिकित्सा में रही है लेकिन हम आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को भूल गए तो भविष्य में आने वाली पीढ़ी को खतरनाक महामारी से कैसे बचाया जा सकता है।


Popular posts
अखिल भारतीय जायसवाल सर्ववर्गीय महासभा द्वारा दिल्ली में केंद्रीय मंत्री श्रीपाद यशो नायक के दीर्घायु के लिए महामृत्युंजय जाप किया गया
Image
सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को नारदा घोटाला मामले में आरोपी टीएमसी नेताओं को नजरबंद करने के कलकत्ता हाईकोर्ट के फैसले में दखल देने से इनकार कर दिया
Image
मौसी के घर रह रहे बालक की बुधवार को मौसा ने हत्या कर गांव के ही कब्रिस्तान में शव दफनाया
Image
नाबालिग बेटी बोली जब से लॉकडाउन हुआ है तब से पिता रोजाना जबरदस्ती शारीरिक संबंध बनाता है
Image
उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद शैक्षणिक कैलेंडर जारी
Image