बंगाल में दुर्गा पूजा पर कोविड-19 का साया

कोलकाता, दो अप्रैल। कोविड-19 के आर्थिक प्रभाव के चलते दुर्गा पूजा के बजट पर असर पड़ने जा रहा है और आयोजकों ने बृहस्पतिवार को कहा कि इस बार कॉर्पोरेट विज्ञापनदाता कम हो जाएंगे जिससे आयोजन बड़े पैमाने पर नहीं हो पाएगा।


पश्चिम बंगाल का सबसे बड़ा त्यौहार दुर्गा पूजा इस वर्ष अक्टूबर में है।


कोलकाता और उपनगरों के सामुदायिक दुर्गा पूजा आयोजकों के मंच ‘फोरम फॉर दुर्गोत्सव’ ने कहा कि बड़े आयोजकों को भी बजट में 40 से 50 फीसदी की कटौती करनी पड़ सकती है।


फोरम के अध्यक्ष काजल सरकार ने  कहा, ‘‘पिछले वर्ष आर्थिक नरमी की वजह से कई आयोजकों को बजट कम करना पड़ा था क्योंकि प्रायोजकों की कमी थी। इस साल हालात और खराब हैं।’’


कोलकाता में करीब 3,000 दुर्गा पूजा का आयोजन होता है जबकि राज्य में यह आंकड़ा 30,000 है।


Popular posts
वीएलसीसी (VLCC) ने उत्तर प्रदेश में २० वर्ष पुरे किए, २० नए वेलनेस सेंटर और १० कौशल विकास संस्थान ( स्किल डेवेलपमेंट इंस्टीटयूट्स ) खोलने के लिए तैयार है।
Image
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को देश के अलग-अलग हाईकोर्ट के न्यायाधीशों के स्थानांतरण को दी मंजूरी
Image
सपा लोहिया वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामकुमार निर्मल म्योहर पहुंचे
Image
दिल्ली-एनसीआर समेत पूरा उत्तर भारत इन दिनों शीतलहर की चपेट में
Image
राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन एवं कालाजार ( विश्लेरल लिश्मेनिएसिस ) उन्मूलन कार्यक्रम की जिला स्तरीय वर्चुवल समीक्षा।
Image