सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस फैसले को दी चुनौती


सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस फैसले को चुनौती दी गई है जिसमें वर्ष 2015 को आधार वर्ष मानकर उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव में सीटों के लिए आरक्षण लागू करने का आदेश दिया गया था। वास्तव में इस फैसले को लेकर कुछ लोग खुश हैं और कुछ इसके विरोध में हैं। इस व्यवस्था से कई ग्राम पंचायत के समीकरण ही बदल गए हैं।


दिलीप कुमार नामक युवक ने हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर विशेष अनुमति याचिका (एसएलपी) में कहा है कि हाईकोर्ट के फैसले पर विचार किया जाना चाहिए।

याचिकाकर्ता की ओर से कहा गया है कि हाईकोर्ट में उनका पक्ष नहीं सुना गया। बता दें कि पिछले दिनों हाईकोर्ट ने वर्ष 2015 को आधार वर्ष मानकर प्रदेश में पंचायत चुनाव में आरक्षण लागू करने का आदेश दिया था और 25 मई तक पंचायत चुनाव संपन्न कराने के लिए कहा था।


Popular posts
राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन एवं कालाजार ( विश्लेरल लिश्मेनिएसिस ) उन्मूलन कार्यक्रम की जिला स्तरीय वर्चुवल समीक्षा।
Image
गंदा पानी पीने को मजबूर कस्बा वासी 10 साल बीते नही हो सकी पानी टंकी से सप्लाई
Image
अमरनाथ यात्रा 2021 के लिए 15 अप्रैल से ऑनलाइन अग्रिम यात्री पंजीकरण प्रक्रिया शुरू
Image
बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर नवरात्र व रमजान से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों को स्वयं की सुरक्षा व बचाव के लिए जोर दिया
Image
जिला पंचायत के चुनाव में भाजपा ने कड़ा रुख अपनाया, 63 प्रत्याशियों की सूची पार्टी की ओर से किया जारी
Image