लॉक डाउन के चलते छोटे बच्चों के साथ भीख मांग कर पेट पालती महिला

कौशाम्बी। पूरे विश्व में कोरोना वायरस की महामारी के बाद लॉक डाउन की घोषणा से श्रमिकों के काम धंधे बंद हो गए जिससे उनके घरों में रोजी-रोटी का सहारा टूट गया इस स्थिति में गरीब परिवारों के बीच दो जून रोटी का प्रबंध नहीं हो पा रहा है जिससे तमाम परिवार दो जून रोटी का जुगाड़ करने में परेशान है तमाम स्वयंसेवी संस्था और जिम्मेदार लोग गरीबों को भोजन पहुंचाने की बात कर रहे हैं लेकिन वास्तविकता यह है कि जरूरतमंदों तक भोजन और राहत सामग्री नहीं पहुंच पा रही है ऐसा ही एक मामला मंझनपुर के ईदगाह के पास रहने वाली महिला मुस्लिमा पत्नी कादिर देखने को मिला है अपने दो छोटे-  छोटे बच्चों को लेकर महिला पूरे दिन नगर में रोटी के जुगाड़ में भटकती है बमुश्किल उसे दो जून रोटी की व्यवस्था हो पाती है जिससे वह परिवार को इस महामारी के संकट में जीवन बचा रही है कोरोनावायरस की महामारी के बीच उपजे आर्थिक संकट ने तमाम परिवारों को दिक्कत में डाल दिया है लेकिन इन गरीब भूखे जरूरतमंद परिवारों की ना तो सरकार सुन रही है और ना ही समाज के लोग इन गरीबों की ओर नजर डाल रहे हैं।


Popular posts
कन्या राशि वालों के घर-परिवार में रहेगा सुख-शांति का माहौल, कर्क राशि वाले रहें इस काम से सावधान, आइए जानते हैं आज के राशिफल के बारे में
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सीबीआई कोर्ट के फैसले को हाईकोर्ट में देगा चुनौती
Image
लखनऊ के अशोक मार्ग पर गोमती के ऊपर संकल्प वाटिया फ्लाईओवर पर शुक्रवार तड़के ओवरलोड ट्रक पलट
Image
अखिल भारतीय जायसवाल सर्ववर्गीय महासभा द्वारा दिल्ली में केंद्रीय मंत्री श्रीपाद यशो नायक के दीर्घायु के लिए महामृत्युंजय जाप किया गया
Image
खेल से होता है मानसिक और शारिरिक विकास : मनोज गुप्ता
Image