लॉक डाउन के चलते छोटे बच्चों के साथ भीख मांग कर पेट पालती महिला

कौशाम्बी। पूरे विश्व में कोरोना वायरस की महामारी के बाद लॉक डाउन की घोषणा से श्रमिकों के काम धंधे बंद हो गए जिससे उनके घरों में रोजी-रोटी का सहारा टूट गया इस स्थिति में गरीब परिवारों के बीच दो जून रोटी का प्रबंध नहीं हो पा रहा है जिससे तमाम परिवार दो जून रोटी का जुगाड़ करने में परेशान है तमाम स्वयंसेवी संस्था और जिम्मेदार लोग गरीबों को भोजन पहुंचाने की बात कर रहे हैं लेकिन वास्तविकता यह है कि जरूरतमंदों तक भोजन और राहत सामग्री नहीं पहुंच पा रही है ऐसा ही एक मामला मंझनपुर के ईदगाह के पास रहने वाली महिला मुस्लिमा पत्नी कादिर देखने को मिला है अपने दो छोटे-  छोटे बच्चों को लेकर महिला पूरे दिन नगर में रोटी के जुगाड़ में भटकती है बमुश्किल उसे दो जून रोटी की व्यवस्था हो पाती है जिससे वह परिवार को इस महामारी के संकट में जीवन बचा रही है कोरोनावायरस की महामारी के बीच उपजे आर्थिक संकट ने तमाम परिवारों को दिक्कत में डाल दिया है लेकिन इन गरीब भूखे जरूरतमंद परिवारों की ना तो सरकार सुन रही है और ना ही समाज के लोग इन गरीबों की ओर नजर डाल रहे हैं।


Popular posts
सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को नारदा घोटाला मामले में आरोपी टीएमसी नेताओं को नजरबंद करने के कलकत्ता हाईकोर्ट के फैसले में दखल देने से इनकार कर दिया
Image
गंदा पानी पीने को मजबूर कस्बा वासी 10 साल बीते नही हो सकी पानी टंकी से सप्लाई
Image
कोरोना के कठिन दौर में शहर में मौतों,सोमवार को रात आठ बजे तक 130 शव शहर के दो श्मशान स्थलों पर पहुंचे, संस्कार के दौरान लकड़ी कम पड़ जाने से कुछ लोगों ने किया हंगामा
सराय अकिल पुलिस व आबकारी टीम ने बरामद की भारी मात्रा में अवैध शराब
पीपल चैराहा स्थित मुख्य बाजार मे राहगीरो के मोबाइल से चीनी ऐप डिलीट करवाती सदर विधायक व महिला मोर्चा की नगर अध्यक्ष
Image