लोगों को जमीन देने का झांसा देकर करोड़ों रुपये की ठगी करने वाली कंपनी शाइन सिटी अपना कार्यालय बंद


लोगों को जमीन देने का झांसा देकर करोड़ों रुपये की ठगी करने वाली कंपनी शाइन सिटी अपना कार्यालय बंद कर फरार हो गई है। उसके सीएमडी सहित सभी निदेशकों के खिलाफ लखनऊ के कई थानों में जालसाजी के केस दर्ज हैं। कुछ गिरफ्तार हो गए हैं तो कुछ खुलेआम घूम रहे हैं।


इन जालसाज निदेशकों ने नई कंपनी कैरियर ग्रुप के नाम से बना ली है। इसका कार्यालय भी गोमतीनगर थानाक्षेत्र में खोला है। इस कंपनी ने शाइन सिटी की जमीनों को अपना बताकर बेचना शुरू कर दिया है। इस संबंध में सोमवार को डीसीपी पूर्वी को शिकायत की गई जिस पर उन्होंने जांच का आदेश दिया है।
डीसीपी पूर्वी चारू निगम के मुताबिक, भारतीय किसान यूनियन भानू गुट ने सोमवार को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें आशीष पटेल उर्फ आशीष वर्मा, ऋचा शुक्ला उर्फ सपना शुक्ला, सुरजीत शुक्ला, रूबी सिंह द्वारा कैरियर ग्रुप के नाम से नई कंपनी खोलने की बात कही गई है। ये सभी लोग शाइन सिटी कंपनी में निदेशक थे। कंपनी के फर्जीवाड़ा करने पर शाइन सिटी के खिलाफ गोमतीनगर थाने में दो सौ से अधिक केस दर्ज हुए है। इसमें ये चारों नामजद हैं। 
जांच के बाद दोषियों पर होगी कार्रवाई: डीसीपी
डीसीपी पूर्वी चारू निगम के मुताबिक, शाइन सिटी के पूर्व निदेशकों द्वारा नई कंपनी खोलकर फर्जीवाड़ा करने की जानकारी हुई है। इस संबंध में किसान यूनियन ने शिकायती पत्र दिया है जिसकी जांच कराई जा रही है। जो दस्तावेज किसान यूनियन ने उपलब्ध कराए हैं।


उनमें नई कंपनी के निदेशकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज होने की प्रति भी शामिल है। उसकी जांच की जा रही है। इतने मुकदमों के आरोपी गिरफ्तार क्यों नहीं हुए। जांच के बाद जो भी दोषी पाया जाएगा। उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 
शाइन सिटी की जमीन को बताया अपना, लगाया बोर्ड 
शाइन सिटी के फरार होेने के बाद तीनों ने कैरियर ग्रुप के नाम से कंपनी बनाई। इसके  बाद शाइन सिटी की ही जमीन को अपना बताकर बेचना शुरू कर दिया है। यहां तक कि शाइन सिटी की जमीन पर अपनी कंपनी का बोर्ड भी लगा दिया है। जालसाजों ने जमीन बेचने और लोगों को झांसा देने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना का सहारा लिया।


इसके तहत लोगों को प्लॉट दिलाने के नाम पर करोड़ों रुपये की ठगी कर रहे हैं। इस कंपनी में सैकड़ों लोगों से 25 करोड़ रुपये की ठगी की है। भारतीय किसान यूनियन भानू गुट के जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र वर्मा का आरोप है कि कंपनी ने फर्जी तरीके से ले-आउट तैयार कर दिखाया जा रहा है।


उनके सारे प्रोजेक्ट रेरा में पंजीकृत नहीं हैं। आम लोगों को धोखा देकर कंपनी पूर्वांचल बिहार नाम के प्रोजेक्ट में 300 बीघे जमीन होने का दावा कर रही है। कंपनी ने 150 बीघे का फर्जी नक्शा भी ग्राहकों को दिखाया है। इसमें कलश इंफ्रासिटी अतरौली मोहनलालगंज की जमीन भी शामिल हैं। किसान नेता ने गोमतीनगर पुलिस पर भी कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है।


Popular posts
कन्या राशि वालों के घर-परिवार में रहेगा सुख-शांति का माहौल, कर्क राशि वाले रहें इस काम से सावधान, आइए जानते हैं आज के राशिफल के बारे में
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सीबीआई कोर्ट के फैसले को हाईकोर्ट में देगा चुनौती
Image
लखनऊ के अशोक मार्ग पर गोमती के ऊपर संकल्प वाटिया फ्लाईओवर पर शुक्रवार तड़के ओवरलोड ट्रक पलट
Image
अखिल भारतीय जायसवाल सर्ववर्गीय महासभा द्वारा दिल्ली में केंद्रीय मंत्री श्रीपाद यशो नायक के दीर्घायु के लिए महामृत्युंजय जाप किया गया
Image
खेल से होता है मानसिक और शारिरिक विकास : मनोज गुप्ता
Image