कोरोना महामारी के दौरान भी बीते आठ माह में प्रदेश में 8 लाख 80 हजार 500 ग्रामीण महिलाओं को मिला रोजगार


कोरोना महामारी के दौरान भी बीते आठ माह में प्रदेश में 8 लाख 80 हजार 500 ग्रामीण महिलाओं को रोजगार दिया गया। उन्हें राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत शुरू किए गए नए कार्यों में रोजगार उपलब्ध कराया गया है।


मिशन के निदेशक सुजीत कुमार के अनुसार नए कार्यों में लगे समूह की प्रत्येक महिला को हर महीने औसतन पांच से सात हजार रुपये महीने तक आय हो रही है। सबसे ज्यादा 6.80 लाख रोजगार आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषाहार के वितरण में उपलबध कराया गया।
कोरोना काल में ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार का संकट आने पर प्रदेश सरकार ने मिशन की महिलाओं के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों को पोषाहार वितरण, बिजली के बिल वितरण एवं वसूली, मास्क एवं सैनिटाइजर बनाने, दुग्ध उत्पादन कंपनी, स्कूल यूनिफार्म बनाने, बैंकिंग सखी, कैंटीन संचालन जैसे कार्य सौंपे।
मिशन में इस वर्ष प्रदेश के लिए 1965 करोड़ रुपये के बजट का प्रावधान किया गया है। केंद्र ने 394.77 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं। वहीं, मिशन के बास गत वित्तीय वर्ष का 388.62 करोड़ रुपये बचा हुआ था।


Popular posts
वीएलसीसी (VLCC) ने उत्तर प्रदेश में २० वर्ष पुरे किए, २० नए वेलनेस सेंटर और १० कौशल विकास संस्थान ( स्किल डेवेलपमेंट इंस्टीटयूट्स ) खोलने के लिए तैयार है।
Image
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को देश के अलग-अलग हाईकोर्ट के न्यायाधीशों के स्थानांतरण को दी मंजूरी
Image
सपा लोहिया वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामकुमार निर्मल म्योहर पहुंचे
Image
दिल्ली-एनसीआर समेत पूरा उत्तर भारत इन दिनों शीतलहर की चपेट में
Image
राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन एवं कालाजार ( विश्लेरल लिश्मेनिएसिस ) उन्मूलन कार्यक्रम की जिला स्तरीय वर्चुवल समीक्षा।
Image